PAK में सरकार विरोधी प्रदर्शन में 150 घायल, LIVE कवरेज बैन, सोशल मीडिया भी बंद

पाकिस्तान में राजधानी इस्लामाबाद की ओर जाने वाले राजमार्ग की घेराबंदी कर प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिये पुलिस और अर्द्धसैनिक बलों के अभियान शुरू करने के बाद झड़पों में शनिवार को एक शख्स की मौत हो गयी और 150 से अधिक अन्य लोग घायल हो गए.

प्रदर्शन तब शुरू हुआ था जब रसूल अल्लाह नाम के इस्लामिक संगठन ने एक इलेक्शन एक्ट की कुछ बातों को लेकर विरोध शुरू किया था. हालांकि, बाद में एक्ट से विवादित बातों को हटा दिया गया.

प्रदर्शन खत्म करने के लिए 8500 स्पेशल पुलिस के जवान लगाए गए हैं. इन्हें इलाइट पुलिस कहा जाता है.

पुलिस अब तक फैजाबाद मोड़ से प्रदर्शनकारियों को हटाने में नाकाम रही है. प्रदर्शनकारी यहां करीब तीन सप्ताह से कब्जा जमाये बैठे हैं. पुलिस ने बताया कि संघर्ष में कम से कम एक सुरक्षाकर्मी की मौत हो गयी और प्रदर्शनकारियों एवं सुरक्षाकर्मियों समेत 150 से अधिक लोग घायल हो गए.

फैजाबाद के पास 8 नवंबर से ही प्रदर्शन हो रहे हैं. इसी को खत्म करने के लिए इस्लामाबाद पुलिस ने कार्रवाई की. इससे पहले प्रदर्शन खत्म करने के लिए समयसीमा दी गई थी. प्रदर्शनकारी कानून मंत्री के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं.

सुरक्षा जवानों ने टेंट हटा दिए हैं और लोगों के कई समूह को खदेड़ने में कामयाब हो गई है. इससे पहले कोर्ट ने फैजाबाद को खाली कराने का आदेश दिया था.

एक रिपोर्ट के मुताबिक, प्रदर्शन की वजह से नेशनल टी-20 कप का मैच भी टाल दिया गया है. नेशनल टी-20 कप का मैच रावलपिंडी में आज ही खेला जाना था. अब यह मैच रविवार को होगा.

पाकिस्तान के गृहमंत्री एहसान इकबाल के खिलाफ शुक्रवार को इस्लामाबाद हाईकोर्ट आईएचसी ने अदालत की अवमानना का नोटिस जारी किया था जिसके बाद यह अभियान शुरू किया गया. यह नोटिस सड़क खाली कराने से संबद्ध अदालत के आदेश को लागू करने में नाकाम रहने के बाद जारी किया गया.

तहरीक-ए-खत्म-ए-नबूवत, तहरीक-ए-लबैक या रसूल अल्लाह टीएलवाईआर और सुन्नी तहरीक पाकिस्तान एसटी के करीब 2,000 कार्यकर्ताओं ने दो सप्ताह से अधिक समय से इस्लामाबाद एक्सप्रेसवे की घेरेबंदी कर रखी थी. यह सड़क इस्लामाबाद को इसके एकमात्र हवाईअड्डे और सेना के गढ़ रावलपिंडी को जोड़ती है.

प्रदर्शनकारी खत्म-ए-नबूवत सितंबर में पारित चुनाव अधिनियम 2017 में बदलावों को लेकर कानून मंत्री जाहिद हमीद के इस्तीफे की मांग कर रहे थे. स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि घायलों को इस्लामाबाद और रावलपिंडी के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है.

Leave a Reply